Personal Blog of Kinjalk Tiwari


Moderation Queue

It’s that time of the year again.

Time for family members to joyfully gather for the holidays. Time to work on those ill-fated New Year’s resolutions. Time to relax and reflect on the past year and lessons learned.

Here at Akismet, we proudly work year round to protect millions of sites from comment spam. To date, in fact, we have eliminated over 65 billion (yes, with a ‘b’) spam comments, and we saw many interesting — and nasty — things in 2012. Make no mistake about it — spam levels are certainly on the rise.

Akismet saved the web from over 25 billion pieces of spam content this past year alone (and December is not over yet!). Toward the end of the year, specifically, we began seeing alarming and heightened levels of spam. Our daily totals — starting in early December — began topping 120 million spam comments per day

View original post 497 more words


है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर |
इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गए हैं ||
 
A Big Salute For The Heroes Of 26/11

Scientist Kinjalk

01 screenr.com – अपने डेस्कटॉप को फिल्म के रूप में रिकॉर्ड करें और उन्हें सीधे YouTube पर भेजें.
02 bounceapp.com स्क्रॉल योग्य वेब पृष्ठों की पूरी लंबाई के स्क्रीनशॉट कैप्चर करें.
03. goo.gl – लंबे URL को छोटा करें और यूआरएल को QR कोड में परिवर्तित करें.
04. untiny.me – छोटे किए गए यूआरएल के पीछे लंबे यूआरएल देखें.
. 05 qClock – गूगल मानचित्र का उपयोग कर शहर के स्थानीय समय का पता करें.
06 copypastecharacter.com – जो विशेष वर्ण (अक्षर या कैरेक्टर) आपके कुंजीपटल पर नहीं हैं उन्हें यहाँ से कॉपी-पेस्ट करें.
07 postpost.com ट्विटर के लिए एक बढ़िया खोज इंजन.
08. lovelycharts.com – फ्लोचार्ट, नेटवर्क आरेख, साइटमैप, आदि बनाएं
09 iconfinder.com सभी आकारों के विविध किस्म के प्रतीक (आइकन) यहाँ मिलेंगे.
10. office.com -अपने ऑफिस दस्तावेज़ों के लिए टेम्पलेट्स, क्लिपआर्ट और चित्र डाउनलोड करें .
11 followupthen.com यह – ईमेल अनुस्मारक (रिमाइंडर) बनाने का सबसे आसान तरीका…

View original post 1,270 more words



Sachin Tendulkar
सचिन के लक्ष्यों को लेकर सचिन से अधिक उनके फैन पगलाए हुए थे.
हर लक्ष्य के बाद और नए लक्ष्य तय कर दिए जाते थे.
बीसवीं सदी की शुरुआत यानी 1900 के आसपास ये माना जाता था कि भौतिक शास्त्र अपने चरम पर पहुंच चुका है और जो खोजा जा सकता था वो खोजा जा चुका है.
अब जो खोजा जाएगा वो बस छोटी मोटी बात होगी यानि विज्ञान पूर्ण हो गया है, और लगभग इसी समय अल्बर्ट आइंस्टीन ने क्वांटम फीजिक्स और सापेक्षता के सिद्धांत का प्रतिपादन किया जिसने पूरे भौतिक शास्त्र को उलट पुलट कर रख दिया.
खेल के रिकार्ड भी कुछ ऐसे ही होते हैं.
विशेषज्ञ तय करते हैं कि अब इससे बेहतर नहीं हो सकता और फिर ऐसा हो जाता है.
जब बॉब बीमन ने मेक्सिको ओलंपिक में 8.90 मीटर की लंबी कूद लगाई थी तो कई लोगों को लगा था कि ये रिकार्ड अब नहीं टूटेगा. यह 25 साल भी नहीं चला.

क्रिकेट की बात

क्रिकेट के रिकार्ड की बात करें तो दो रिकार्ड हमेशा याद किए जाते हैं.
सर डॉन ब्रैडमैन का करियर का औसत 99.94 और जिम लेकर के एक ही मैच में 90 रन देकर लिए गए 19 विकेट
हाल ही में एक और रिकार्ड बना मुरलीधरन के टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट.
अब इसी श्रृंखला में एक और नाम जुड़ा है- अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सचिन का सौंवा शतक.
रिकार्ड कितना बड़ा है इसका अंदाज़ा लगाने के लिए देखिए, दूसरे नंबर पर मौजूद रिकी पोंटिंग को जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कुल शतक लगाए हैं 71.
टेस्ट क्रिकेट में सचिन के 52 शतकों के बाद जैक्स कैलिस का नंबर है जिन्होंने 42 टेस्ट शतक लगाए हैं.
वनडे में सचिन के 49 शतकों के बाद दूसरे नंबर पर रिकी पोंटिंग हैं जिन्होंने मात्र 30 शतक लगाए हैं.
क्या इसकी कोई तुलना हो सकती है?

फैन पगलाए

तेंदुलकर ने जब 16 साल की उम्र में अपना करियर शुरु किया था तो 35 टेस्ट शतक बनाना संतोषजनक माना जाता था और वनडे में 25 शतक बन जाएं तो 60 अंतरराष्ट्रीय शतक अच्छा लगता था.
ऐसा लगता है कि सचिन के लक्ष्यों को लेकर सचिन से अधिक उनके फैन पगलाए हुए थे. हर लक्ष्य के बाद और नए लक्ष्य तय कर दिए जाते थे.
अब जबकि टेस्ट मैचों के भविष्य पर ही बहस चल रही है जहां टेस्ट मैचों की संख्या कम किए जाने पर विचार हो रहा है तो फिर यह बात बेकार लगती है कि रिकार्ड टूटने के लिए ही बनते हैं.
किसी मर्डर मिस्ट्री की तरह बल्लेबाज़ों का भी अपना उद्देश्य होता है, मौके होते हैं और लक्ष्य होते हैं.
फिर सवाल उम्र का भी था. इच्छा ज़रुर थी लेकिन 40 की उम्र में शरीर साथ नहीं देता.

‘सौम्य’ तेंदुलकर

 

यह देखना आसान है कि 99.94 के टेस्ट औसत को पार कर पाना क्यों मुश्किल है.ब्रैडमैन के बाद दूसरे नंबर पर हर्बर्ट सटक्लिफ हैं जिनका औसत 60.73 है. ये उन खिलाड़ियों के औसत की बात हो रही है जिन्होंने 50 से अधिक टेस्ट खेले हैं.
लेकर की बात करें तो ये भी मुश्किल है. एक ही मैच में दो बार दस दस विकेट लेना असंभव ही लगता है. लेकर के बाद दूसरे नंबर पर हैं सिड बार्नेस जिन्होंने 159 रन देकर 17 विकेट लिए हैं.
तेंदुलकर सौम्य है लेकिन वो आज के ज़माने के सिकंदर हैं जिनके लिए कोई दुनिया जीतना बाकी नहीं रह गया है.
Sachin's 100 th century
सचिन ने एक दिवसीय क्रिकेट में 49 और टेस्ट क्रिकेट में 51 शतक लगाए हैं
लेकिन किसी के लिए भी 100 अंतरराष्ट्रीय शतक बनाना मुश्किल है जिसके लिए करियर जल्दी शुरु करना होगा और कम से कम दो दशक खेलना होगा जिसमें हर साल कम से कम पांच शतक लगाने होंगे. ये असंभव नहीं तो
 मुश्किल ज़रुर दिखता है.
भारतीय क्रिकेट जोश पर टिका है जहां भावनाएं बहुत जल्दी आहत हो जाती हैं. खिलाड़ियों को भगवान माना जाता है. रोमांस यथार्थ पर भारी है. भावनाएं तर्क और बहस को पार कर जाती हैं.
यही कारण है कि हार में तेंदुलकर के शतक का जश्न मनाया जाता है…जीत में 40 रन बनाएं सचिन तो जश्न का मज़ा कम होता है.
शायद तभी लोगों को सचिन के 99 अंतरराष्ट्रीय शतकों में से सिर्फ 53 शतकों से भारत को जीत मिली है.
लेकिन आज… बात कुछ और थी.
हेमिंग्वे के शब्दों में कहें तो आपकी किस्मत अच्छी है अगर आपने तेंदुलकर के करियर को देखा है क्योंकि जिंदगी में आप कहीं भी जाएंगे तेंदुलकर आपके साथ रहेंगे.
…और ये एहसास तेंदुलकर की सबसे बड़ी उपलब्धि है.
From :-BBC Hindi

       Paisalive.com Is a Website which pays you for reading Paid E-mails .It’s Only Available For Indian Residents. You Need Only Register On Website For Free to Start Earning. Paisalive.com Is Runs By Phoenix Advanced Softwares Pvt. Ltd . ,Jaipur.This Is a very popular website in India (#700-800) according Alexa.
Paisalive.com Logo

Program Overview:

PaisaLive.com is a unique concept in which you login to your PaisaLive.com Account every day, check your PaisaLive emails sent by our advertisers and earn money. Paisalive Don’t send promotional email to your email accounts; rather you visit PaisaLive.com daily to check your paid emails.
  • You will earn instantly Rs. 99 just for joining PaisaLive.com. 
  • You will earn Rs. 0.25 to Rs. 5.00 for checking each promotion. The amount you earn depends
  • on your Activity Score and the type of promotion. 
  • You get Paid foreach friend that joins under you. The friend referral rate is Rs. 2.00 per friend referred.

How to Join:

The Joining is Very Simple.  Register Without Any Cost & Earn Rs. 99/- (INR) As Welcome Bonus.

Payment Mode:

According Official Website of Paisalive“We pay our members on 15th of every month. For example, if you place a payment request today, we will dispatch your cheque by 15th of next month. Our mode of payment is via Cheque to the address mentioned in your account during registration.”

Payment Proofs:

Payment Proof

Payment Proof

Paisalive Uploads Scanned copies of cheques & courier tracking slip Every Month for greater transparency.

Earn More From Paisalive.com:

Login to your Account Everyday:

   PaisaLive.com pays you for every unique login in 24 hours. SO, IF YOU DO NOT LOGIN TO YOUR ACCOUNT FREQUENTLY, YOU DO NOT MAKE MUCH MONEY! 

Invite as many friends as you can!:

Invite Friends

   You get Paid for each friend that joins under you. The friend referral rate is Rs. 2.00 per friend referred. For higher earnings, you must invite as many friends as you can .

Participate in the Promotions! :

Participate in the Promotions that are of Interest to you. Promotions Are A Good Way 2 Earn More.

Final review:

  •             Paisalive.com Is Really Paying Website.
  •             You will earn instantly Rs. 99 just for joining PaisaLive.com. 
  •             PaisaLive is NOT a Get-Rich-Quick kind of website. You will not become rich overnight.Initially your earnings may be slow, but it will catch up very soon and you should be able to make regular income every month.
  •        You don’t need to pay any fees to join PaisaLive.com. It’s absolutely FREE to join. Infact, we and our advertisers pay you to check their promotions.
  •              If You Are Interested, register now  & Start Earning Today.

Click Here To Register.


इस जानवर को प्राय: अनेक लोगों ने देखा होगा, पर इसकी बोली से परिचित होनेवालों से परिचित होनेवालों की संख्या देखनेवालों से अधिक होगी। शीत ऋतु में प्रतिदिन अँधेरा होते ही इसकी बोली सुनाई देती है। आरंभ में एक गीदड़ हुआ हुआ बोलते है, फिर अन्य सब उसे दुहराते हैं और अंत में चिल्लाना चीखने में बदल जाता है।
गीदड़ की लंबाई दो ढ़ाई फुट और ऊँचाई सवा फुट के लगभग, पूँछ झबरी, थूथन लंबा और रंग भूरा होता। यह सर्वभक्षी है तथा सड़े गले मांस के अतिरिक्त छोटे मोटे जीवों का शिकार करता है। यह गन्ना, ईख, कंदमूल, भुट्टा आदि खाकर कृषकों को क्षति पहुँचाता है।
गीदड़ झुंडो में रहते हैं। ये दिन में झाड़ियों और काँटों में छिपे रहते हैं और संध्या होते ही आहार की खोज में निकल पड़ते हैं। कभी कभी दिन में भी दिखाई पड़ते हैं।

यह एक विशेष व सबसे रहस्यमयी परभक्षी है और कान्हा राष्ट्रीय उद्यान के परभक्षियों के वरीयता क्रम मेंकाफ़ी निम्न स्थान है। अपनी हरफनमौला वाली विशेषता के कारण वह कान्हा पार्क के पारिस्थितिकी-तंत्र में विस्तृत क्षेत्रों में अपने निकट स्थापित करने में सफल हुआ है।

कभी कभी गीदड़ अकेला रहने लगता है। इस समय वह गाँव के पास छिपकर रहता है और अवसर पाते ही गाँव के पालतू कुत्ते, बकरी, भेड़ के बच्चे, मुर्गियों और कभी कभी आदमी के बच्चे को भी उठा ले जाता है। यह कायर और मक्कार, किंतु चालाक जानवर है। मादा एक बार में तीन से पाँच बच्चे जनती है।
गीदड़ की आयु लगभग 12 वर्ष की होती है। विशेष प्रकार से गीदड़ उद्यान में हर जगह दिखाई दे जाते हैं। 
%d bloggers like this: